Wednesday , August 3 2022

राज्यसभा चुनाव: राजस्थान BJP को तीन में से एक सीट मिलने आसार में किसकी बचेगी कुर्सी?

राजस्थान की तीन राज्यसभा सीटों पर चुनाव का बिगुल बज चुका है. विधायकों की संख्या के आधार पर कांग्रेस के खाते में दो सीटें आ सकती हैं तो बीजेपी को महज एक सीट मिलने की संभावना है. मौजूदा समय में बीजेपी के पास ही तीनों सीटें हैं. ऐसे में देखना होगा कि बीजेपी के खाते में से किसे मौका मिलता है और किसे नहीं?

राजस्थान की तीन राज्यसभा सीटों के लिए 26 मार्च को होने वाले चुनाव की सियासी जोड़तोड़ शुरू हो गई है. विधायकों के आंकड़ों के मुताबिक राज्यसभा की खाली होने वाली तीनों सीटों में से दो सीटों पर कांग्रेस का पलड़ा भारी रहने वाला है. बीजेपी से राम नारायण डूडी, विजय गोयल और नारायण लाल पंचारिया फिलहाल राज्यसभा सदस्य हैं, इनमें से दो की कुर्सी जानी तय है. ऐसे में देखना है कि बीजेपी किसे मौका देती है और किसे नहीं?

राजस्थान में राज्यसभा की कुल 10 सीटें हैं. इनमें से 9 सीटों पर बीजेपी का कब्जा है और एक सीट पर कांग्रेस के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सांसद हैं. इन 10 सीटों में से तीन सीटों पर 26 मार्च को चुनाव होने हैं. प्रदेश में 2018 विधानसभा चुनाव के बाद बदले हुए राजनैतिक समीकरणों का असर राजस्थान की रिक्त होने वाली राज्यसभा की तीन सीटों पर भी पड़ेगा और इसका सीधा असर बीजेपी के नेताओं पर पड़ेगा.

राजस्थान की तीन सीटों पर हो रहे चुनाव को लेकर पूरे 200 विधायकों के मान्य वोट हैं. फिलहाल कांग्रेस के पास 107 विधायक हैं तो बीजेपी के पास 72 विधायक हैं. कांग्रेस के पास 13 निर्दलियों में से अधिकतर का समर्थन भी है. अन्य छोटी पार्टियों और निर्दलीय विधायकों की संख्या 21 है. इस लिहाज से बीजेपी के खाते में एक और कांग्रेस के खाते में दो सीट आएगी.

राजस्थान की इन तीनों सीटों की बात करें तो हर एक सीट को जीतने के लिए प्रथम वरीयता के लिए 51 वोट चाहिए. इस फॉर्मूले के लिहाज से कांग्रेस को दो सीट जीतने के लिए 102 वोट चाहिए जो कि पर्याप्त रूप से उसके पास हैं. वहीं बीजेपी के पास सदन में 72 विधायक हैं, ऐसे में प्रथम वरीयता के 51 वोट के लिहाज से बीजेपी के खाते में भी एक सीट आने वाली है.

बीजेपी के तीन राज्यसभा सदस्यों में से किसे मिलेगा मौका

राजस्थान इन तीन सीटों से बीजेपी के राज्यसभा सदस्य ही रिटायर हो रहे हैं. इनमें राम नारायण डूडी, विजय गोयल और नारायण लाल पंचारिया शामिल हैं. बीजेपी ने विजय गोयल को दिल्ली से होने के बाद भी राजस्थान कोटे से 2014 में उच्च सदन में भेजा था जबकि बाकी दो नेता तो राजस्थान से ही आते हैं और पार्टी के दिग्गज नेता माने जाते हैं. हालांकि सूत्रों की मानें तो बीजेपी अपने इन तीनों में से किसी को भी मौका नहीं देना चाहती है.

कांग्रेस के कोटे से इन नेताओं के नाम पर चर्चा

वहीं, कांग्रेस के खाते में दो राज्यसभा सीटें आ सकती हैं. पार्टी एक सीट पर प्रदेश के बाहरी व्यक्ति और एक सीट पर प्रदेश के व्यक्ति को राज्यसभा भेजे सकती है. अलवर से पूर्व सांसद भंवर जितेंद्र सिंह और गौरव वल्लभ को भी राजस्थान से राज्यसभा में भेजने की चर्चाएं चल रही हैं. ये दोनों ही नेता गांधी परिवार के करीबी माने जाते हैं, जिसका इन्हें लाभ मिलने की संभावना जताई जा रही है.

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com